Login

Sign Up

After creating an account, you'll be able to track your payment status, track the confirmation and you can also rate the tour after you finished the tour.
Username*
Password*
Confirm Password*
First Name*
Last Name*
Birth Date*
Email*
Phone*
Country*
* Creating an account means you're okay with our Terms of Service and Privacy Statement.
Please agree to all the terms and conditions before proceeding to the next step

Already a member?

Login

5 Kosi Parikrama, Ayodhya 2023 : पंचकोसी परिक्रमा : Date, Marg & Route Guide

0
Price
Full Name*
Email Address*
Your Enquiry*
* I agree with Terms of Service and Privacy Statement.
Please agree to all the terms and conditions before proceeding to the next step
Save To Wish List

Adding item to wishlist requires an account

762

Why Us?

  • We don't accept payment, we only guide
  • Customer care available 24/7
  • Hand-picked Tours & Activities
  • Guided by Local Guide

Get a Question?

Do not hesitage to give us a call. We are an expert team and we are happy to talk to you.


hi@ayodhya-travel.com

पंचकोसी परिक्रमा, अयोध्या
Ayodhya
Just CLICK on any ads on this page to donate for 5 Kosi Parikram Camp 2023

कृपया इस पृष्ठ पर किसी भी विज्ञापन पर क्लिक करें और 5 Kosi Parikrma Camp 2023 के लिए दान करें।

5 Kosi Parikrama in Ayodhya
5 कोसी परिक्रमा कब है 2023 : 24 Nov, 2023 को है|
14 Kosi Parikrama Date : Wed-Thu, 21-22 Nov, 2023

5 कोसी परिक्रमा

आयोध्या में मुख्य रूप से 3 प्रकार की परिक्रमाएँ होती हैं: पहली 84 कोसी, दूसरी 14 कोसी, और तीसरी 5 कोसी की। 1 कोस में 3 किलोमीटर होते हैं। आयोध्या की सीमा तीन भागों में बाँटी है: 84 कोसी में अवध क्षेत्र, 14 कोसी में आयोध्या नगर, और 5 कोसी में आयोध्या क्षेत्र है। इसलिए, तीन प्रकार की परिक्रमा होती है। 84 कोसी परिक्रमा में साधू-संत भाग लेते हैं, जबकि 14 कोसी और 5 कोसी परिक्रमा में आम लोग शामिल होते हैं।

परिक्रमा का मुख्य उद्देश्य है कि हिन्दू धर्म के अनुसार जीवात्मा 84 लाख योनियों में भ्रमण करती है, और इस प्रक्रिया के दौरान जन्म जन्मांतर में किए गए पापों का नाश होता है। कहा जाता है कि परिक्रमा करते समय पाप नष्ट होते हैं।

14 कोसी परिक्रमा, जिसे कार्तिक परिक्रमा भी कहा जाता है, वर्ष में एक बार होती है, और इसके दौरान भगवान विष्णु का देवोथान (जागना) होता है, जिससे कार्यों में कोई क्षरण नहीं होता और जो प्रतिभागी के लिए आनंददायक होता है। अगर आप मन से इसमें भाग लें, तो आपको इसके फल की प्राप्ति होती है।

Proceed Booking